• 'मैं नहीं लूंगी सस्ता लहंगा...' लड़के वालों ने दिया 10 हजार रुपए का लहंगा, तो गुस्से में आकर दुल्हन ने तोड़ दी शादी
     

    Written ByDeepika Pandey

    Published onWed, 23 Nov 2022

    'मैं नहीं लूंगी सस्ता लहंगा...' लड़के वालों ने दिया 10 हजार रुपए का लहंगा, तो गुस्से में आकर दुल्हन ने तोड़ दी शादी

    किसी ने ठीक कहा है कि शादी दो आत्माओं का मिलन है। यह एक ऐसा अटूट बंधन है, जिसमें बंधे दो लोग हमेशा-हमेशा के लिए एक-दूसरे के हो जाते हैं। यही तो एक बड़ी वजह भी है कि तमाम रीति-रिवाज और रस्मों के साथ एक शादी को खास बनाया जाता है। हां, वो बात अलग है कि जब भारत में होने वाली शादियों की बात आती है, तो ये भरपूर ड्रामे से भरी होती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि रिश्ता पक्का होने पर अगर फूफा को न पूछा जाए, तो उनका मुंह बन जाता है। वहीं शादी में दहेज कम दिया, तो ससुराल वाले ताने मारने लगते हैं। लेकिन अब जब जो मामला सामने आया है, उसने हर किसी को हैरान करके रख दिया।


    उपयोगकर्ताओं का दावा! रोजाना कपिवा गेट स्लिम जूस लेने से 10 किलो वजन कम करने में मदद मिली


    दरअसल, हुआ कुछ ऐसा कि उत्तराखंड के हल्द्वानी जिले के राजपुरा इलाके में रहने वाली एक लड़की की पिछले दिनों अल्मोड़ा के रहने वाले एक लड़के के साथ शादी पक्की हुई। शादी की सभी तैयारियां जोरो पर चल रही थीं, लेकिन लड़के वालों की तरफ से उसे जो लहंगा दिया गया, उसने एक नया विवाद खड़ा कर दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, लड़की ने शादी से इसलिए इनकार कर दिया क्योंकि ससुराल वालों ने उसे सस्ता लहंगा दिया था। जब उसे पता चला कि उसके लिए दूल्हे की तरफ से जो लहंगा खरीदा गया है, उसकी कीमत केवल 10 हजार रुपये है, तो उसने न केवल गुस्से में लहंगा फेंक दिया बल्कि शादी भी तोड़ दी।
    नाराज दुल्हन ने शादी से किया इनकार


    पुलिस ने भी की सुलाह कराने की कोशिश
    लहंगे को देखने के बाद दुल्हन आग बबूला हो गई। उसने शादी से साफ इनकार कर दिया, जिसके बाद यह मामला स्थानीय थाने में भी पहुंचा। लेकिन यहां भी कोई बात नहीं बनी। घंटों की तीखी नोकझोंक के बाद दोनों पक्षों में समझौता हो गया और शादी टूट गई।


    हालांकि, हल्द्वानी पुलिस ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह दुल्हन को मनाने में सफल नहीं हुए। वहीं दूल्हे के परिवार वालों ने दावा किया कि उन्होंने लहंगा विशेष रूप से लखनऊ से 10 हजार रुपये में खरीदा था। लेकिन दुल्हन के लिए यह काफी सस्ता था।
    'जब मैं विधवा हो गई थी...' मेरे घर में खाना बनाने वाली वो एक महिला, जो मेरी मां से भी ज्यादा खास ह
    ससुरजी ने ATM भी दिया

     किसी ने ठीक कहा है कि शादी दो आत्माओं का मिलन है। यह एक ऐसा अटूट बंधन है, जिसमें बंधे दो लोग हमेशा-हमेशा के लिए एक-दूसरे के हो जाते हैं। यही तो एक बड़ी वजह भी है कि तमाम रीति-रिवाज और रस्मों के साथ एक शादी को खास बनाया जाता है। हां, वो बात अलग है कि जब भारत में होने वाली शादियों की बात आती है, तो ये भरपूर ड्रामे से भरी होती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि रिश्ता पक्का होने पर अगर फूफा को न पूछा जाए, तो उनका मुंह बन जाता है। वहीं शादी में दहेज कम दिया, तो ससुराल वाले ताने मारने लगते हैं। लेकिन अब जब जो मामला सामने आया है, उसने हर किसी को हैरान करके रख दिया। उपयोगकर्ताओं का दावा! रोजाना कपिवा गेट स्लिम जूस लेने से 10 किलो वजन कम करने में मदद मिली दरअसल, हुआ कुछ ऐसा कि उत्तराखंड के हल्द्वानी जिले के राजपुरा इलाके में रहने वाली एक लड़की की पिछले दिनों अल्मोड़ा के रहने वाले एक लड़के के साथ शादी पक्की हुई। शादी की सभी तैयारियां जोरो पर चल रही थीं, लेकिन लड़के वालों की तरफ से उसे जो लहंगा दिया गया, उसने एक नया विवाद खड़ा कर दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, लड़की ने शादी से इसलिए इनकार कर दिया क्योंकि ससुराल वालों ने उसे सस्ता लहंगा दिया था। जब उसे पता चला कि उसके लिए दूल्हे की तरफ से जो लहंगा खरीदा गया है, उसकी कीमत केवल 10 हजार रुपये है, तो उसने न केवल गुस्से में लहंगा फेंक दिया बल्कि शादी भी तोड़ दी। नाराज दुल्हन ने शादी से किया इनकार पुलिस ने भी की सुलाह कराने की कोशिश लहंगे को देखने के बाद दुल्हन आग बबूला हो गई। उसने शादी से साफ इनकार कर दिया, जिसके बाद यह मामला स्थानीय थाने में भी पहुंचा। लेकिन यहां भी कोई बात नहीं बनी। घंटों की तीखी नोकझोंक के बाद दोनों पक्षों में समझौता हो गया और शादी टूट गई। हालांकि, हल्द्वानी पुलिस ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह दुल्हन को मनाने में सफल नहीं हुए। वहीं दूल्हे के परिवार वालों ने दावा किया कि उन्होंने लहंगा विशेष रूप से लखनऊ से 10 हजार रुपये में खरीदा था। लेकिन दुल्हन के लिए यह काफी सस्ता था। 'जब मैं विधवा हो गई थी...' मेरे घर में खाना बनाने वाली वो एक महिला, जो मेरी मां से भी ज्यादा खास ह ससुरजी ने ATM भी दिया दरअसल, दोनों की सगाई जून में हुई थी और 5 नवंबर को शादी होने वाली थी। शादी के लिए कार्ड भी बांटे जा चुके थे। लेकिन लहंगा देखकर लड़की अपना आपा खो बैठी। उसने कहा कि 'मैं नहीं लूंगी सस्ता लहंगा...' जबकि स्थानीय रिपोर्टरों की मानें तो, मामले को बढ़ता देख दूल्हे के पिता ने लड़की को उसकी पसंद का लहंगा खरीदने के लिए अपना एटीएम कार्ड भी दिया। लेकिन इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ, जिसके हल्द्वानी पुलिस ने दोनों पक्षों के लिए विवाह समाप्त कर दिया और आखिर में दोनों पक्षों ने भी अलग होना सही समझा। नहीं सोचा परिवार का क्या होगा अगर हमारी मानी जाए, तो हम लड़की के इस कदम से बिल्कुल भी खुश नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि अपनी बेटी को हंसी-खुशी विदा करने के लिए हर मां-बाप अपने जीवन की पूरी पूंजी लगा देते हैं। इतना ही नहीं, कुछ पैरेंट्स तो बेटी की शादी के बाद भी ताउम्र कर्ज से नहीं छूटते। ऐसे में जिस शादी की सभी तैयारियां हो चुकी हों, शादी के कार्ड बंट चुके हो, वहां आप समझ ही सकते हैं कि मां-बाप के दिल पर क्या बीत रही होगी। हम इस बात को भी मानते हैं कि आज के समय में 10 हजार रुपए में शादी का लहंगा नहीं आता है, लेकिन यह शादी तोड़ने के लिए सही नहीं था। लड़की चाहती तो एक सौहार्दपूर्ण समाधान से बात बना सकती थी।
    दरअसल, दोनों की सगाई जून में हुई थी और 5 नवंबर को शादी होने वाली थी। शादी के लिए कार्ड भी बांटे जा चुके थे। लेकिन लहंगा देखकर लड़की अपना आपा खो बैठी। उसने कहा कि 'मैं नहीं लूंगी सस्ता लहंगा...' जबकि स्थानीय रिपोर्टरों की मानें तो, मामले को बढ़ता देख दूल्हे के पिता ने लड़की को उसकी पसंद का लहंगा खरीदने के लिए अपना एटीएम कार्ड भी दिया। लेकिन इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ, जिसके हल्द्वानी पुलिस ने दोनों पक्षों के लिए विवाह समाप्त कर दिया और आखिर में दोनों पक्षों ने भी अलग होना सही समझा।
    नहीं सोचा परिवार का क्या होगा

     किसी ने ठीक कहा है कि शादी दो आत्माओं का मिलन है। यह एक ऐसा अटूट बंधन है, जिसमें बंधे दो लोग हमेशा-हमेशा के लिए एक-दूसरे के हो जाते हैं। यही तो एक बड़ी वजह भी है कि तमाम रीति-रिवाज और रस्मों के साथ एक शादी को खास बनाया जाता है। हां, वो बात अलग है कि जब भारत में होने वाली शादियों की बात आती है, तो ये भरपूर ड्रामे से भरी होती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि रिश्ता पक्का होने पर अगर फूफा को न पूछा जाए, तो उनका मुंह बन जाता है। वहीं शादी में दहेज कम दिया, तो ससुराल वाले ताने मारने लगते हैं। लेकिन अब जब जो मामला सामने आया है, उसने हर किसी को हैरान करके रख दिया। उपयोगकर्ताओं का दावा! रोजाना कपिवा गेट स्लिम जूस लेने से 10 किलो वजन कम करने में मदद मिली दरअसल, हुआ कुछ ऐसा कि उत्तराखंड के हल्द्वानी जिले के राजपुरा इलाके में रहने वाली एक लड़की की पिछले दिनों अल्मोड़ा के रहने वाले एक लड़के के साथ शादी पक्की हुई। शादी की सभी तैयारियां जोरो पर चल रही थीं, लेकिन लड़के वालों की तरफ से उसे जो लहंगा दिया गया, उसने एक नया विवाद खड़ा कर दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, लड़की ने शादी से इसलिए इनकार कर दिया क्योंकि ससुराल वालों ने उसे सस्ता लहंगा दिया था। जब उसे पता चला कि उसके लिए दूल्हे की तरफ से जो लहंगा खरीदा गया है, उसकी कीमत केवल 10 हजार रुपये है, तो उसने न केवल गुस्से में लहंगा फेंक दिया बल्कि शादी भी तोड़ दी। नाराज दुल्हन ने शादी से किया इनकार पुलिस ने भी की सुलाह कराने की कोशिश लहंगे को देखने के बाद दुल्हन आग बबूला हो गई। उसने शादी से साफ इनकार कर दिया, जिसके बाद यह मामला स्थानीय थाने में भी पहुंचा। लेकिन यहां भी कोई बात नहीं बनी। घंटों की तीखी नोकझोंक के बाद दोनों पक्षों में समझौता हो गया और शादी टूट गई। हालांकि, हल्द्वानी पुलिस ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह दुल्हन को मनाने में सफल नहीं हुए। वहीं दूल्हे के परिवार वालों ने दावा किया कि उन्होंने लहंगा विशेष रूप से लखनऊ से 10 हजार रुपये में खरीदा था। लेकिन दुल्हन के लिए यह काफी सस्ता था। 'जब मैं विधवा हो गई थी...' मेरे घर में खाना बनाने वाली वो एक महिला, जो मेरी मां से भी ज्यादा खास ह ससुरजी ने ATM भी दिया दरअसल, दोनों की सगाई जून में हुई थी और 5 नवंबर को शादी होने वाली थी। शादी के लिए कार्ड भी बांटे जा चुके थे। लेकिन लहंगा देखकर लड़की अपना आपा खो बैठी। उसने कहा कि 'मैं नहीं लूंगी सस्ता लहंगा...' जबकि स्थानीय रिपोर्टरों की मानें तो, मामले को बढ़ता देख दूल्हे के पिता ने लड़की को उसकी पसंद का लहंगा खरीदने के लिए अपना एटीएम कार्ड भी दिया। लेकिन इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ, जिसके हल्द्वानी पुलिस ने दोनों पक्षों के लिए विवाह समाप्त कर दिया और आखिर में दोनों पक्षों ने भी अलग होना सही समझा। नहीं सोचा परिवार का क्या होगा अगर हमारी मानी जाए, तो हम लड़की के इस कदम से बिल्कुल भी खुश नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि अपनी बेटी को हंसी-खुशी विदा करने के लिए हर मां-बाप अपने जीवन की पूरी पूंजी लगा देते हैं। इतना ही नहीं, कुछ पैरेंट्स तो बेटी की शादी के बाद भी ताउम्र कर्ज से नहीं छूटते। ऐसे में जिस शादी की सभी तैयारियां हो चुकी हों, शादी के कार्ड बंट चुके हो, वहां आप समझ ही सकते हैं कि मां-बाप के दिल पर क्या बीत रही होगी। हम इस बात को भी मानते हैं कि आज के समय में 10 हजार रुपए में शादी का लहंगा नहीं आता है, लेकिन यह शादी तोड़ने के लिए सही नहीं था। लड़की चाहती तो एक सौहार्दपूर्ण समाधान से बात बना सकती थी।
    अगर हमारी मानी जाए, तो हम लड़की के इस कदम से बिल्कुल भी खुश नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि अपनी बेटी को हंसी-खुशी विदा करने के लिए हर मां-बाप अपने जीवन की पूरी पूंजी लगा देते हैं। इतना ही नहीं, कुछ पैरेंट्स तो बेटी की शादी के बाद भी ताउम्र कर्ज से नहीं छूटते।
    ऐसे में जिस शादी की सभी तैयारियां हो चुकी हों, शादी के कार्ड बंट चुके हो, वहां आप समझ ही सकते हैं कि मां-बाप के दिल पर क्या बीत रही होगी। हम इस बात को भी मानते हैं कि आज के समय में 10 हजार रुपए में शादी का लहंगा नहीं आता है, लेकिन यह शादी तोड़ने के लिए सही नहीं था। लड़की चाहती तो एक सौहार्दपूर्ण समाधान से बात बना सकती थी।

Latest Topics