• IndiGo: दिल्ली से पटना जा रही फ्लाइट में महिला को हार्ट अटैक, यात्रा कर रहे 4 डॉक्टर्स ने बचाई जान

    Written ByDeepika Pandey

    Published onWed, 23 Nov 2022

    IndiGo: दिल्ली से पटना जा रही फ्लाइट में महिला को हार्ट अटैक, यात्रा कर रहे 4 डॉक्टर्स ने बचाई जान

    नई दिल्ली से पटना के लिए उड़ान भरने वाली इंडिगो की फ्लाइट में एक महिला को अचानक हार्ट अटैक आ गया और वह अपनी सीट पर बेहोश हो गई. इंडिगो के विमान को दिल्ली से उड़ान भरे सिर्फ 35 मिनट ही हुए थे कि 59 वर्षीय महिला की तबीयत अचानक बिगड़ गई और बेहोश हो गई. गनीमत ये रही कि उस फ्लाइट में सवार 4 डॉक्टरों ने सूझबूझ से महिला की जान बचा ली.पटना में फ्लाइट के उतरने के बाद महिला को प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया. अब महिला की तबीयत स्थिर है.

    इंडिगो विमान से नई दिल्ली से पटना की यात्रा कर रही एक 59 वर्षीय महिला को विमान के टेकऑफ़ के तुरंत बाद सीने में दर्द हुआ और वह अचानक सीट पर ही गिर गई. इंडिगो के केबिन क्रू ने तत्काल कार्रवाई की और स्थिति को संभालने के लिए डॉक्टरों और नर्सों से मदद की मांग की. इसके बाद चार डॉक्टर महिला की जान बचाने के लिए आगे आए. पायलटों ने पटना हवाई यातायात नियंत्रण (एटीसी) को सूचित किया और उड़ान को प्राथमिकता दी. विमान शाम 7:45 बजे के निर्धारित समय से लगभग 25 मिनट पहले पटना में उतारा गया.

    इंडिगो के केबिन क्रू ने डॉक्टरों से मांगी मदद
    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला के पति प्रमोद अग्रवाल ने बताया कि उनकी पत्नी सुमन अग्रवाल को हाइपरटेंशन है. दोनों नागपुर से आ रहे थे. उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट से उड़ान भरने के 35 मिनट बाद सीने में दर्द होने लगा और वे सीट पर ही गिर गईं. इसके बाद क्रू ने तुरंत विमान में सवार डॉक्टरों और नर्सों से मदद मांगी. तभी चार डॉक्टर, जिनमें से तीन सरकारी सेवा में थे, वे मदद के लिए आगे आए और उन्होंने स्थिति को संभाला.

    फ्लाइट में मौजूद थींसभी जरूरी दवाएं
    मीडिया रिपोर्ट्स में आगे कहा गया है कि सामुदायिक मेडिसिन में एमडी डॉ. अभिषेक कुमार सिन्हा ने बताया कि यात्री बेहोश हो गया था और शॉक की स्थिति में थी. उनका ब्लड प्रेशर भी रिकॉर्ड नहीं हो पा रहा था. न ही पेरीफेरल नर्वस चल रही थी. उन्होंने बताया कि उनके पास महिला की कोई मेडिकल हिस्ट्री भी नहीं थी. ऐसे में हाइपोग्लाइकेमिया से बचने के लिए उन्होंने एक एयर होस्टेस से पानी में चीनी मिलाकर पिलाने को कहा. डॉ सिन्हा ने बताया कि फ्लाइट में ऑक्सीजन सिलेंडर समेत सभी जरूरी दवाएं मौजूद थीं. जो काम आईं.


    ‘हवा में ट्रीटमेंट देना काफी चुनौतीपूर्ण था’
    मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में तैतान डॉ निकिता श्रीवास्तव ने बताया कि महिला को ऑक्सीजन पर रखा गया. हालांकि, जब नर्व तेजी से गिरती हैं, जब अस्पताल में भी ऐसा करना काफी कठिन होता है, ऐसे में हवा में करना काफी चुनौतीपूर्ण था. इसके बाद उन्हें कुछ जरूरी दवाएं दी गईं, जिसके बाद महिला को होश आ गया. इस दौरान नई दिल्ली से डॉ मल्लिकार्जुन और आर्मी हॉस्पिटल में तैनात डॉ आतिश भी साथ रहे और महिला की जान बचाने में मदद की.

    उधर, महिला मरीज को और चिकित्सा सहायता देने के लिए एक एम्बुलेंस और डॉक्टरों की एक टीम हवाई अड्डे पर इंतजार कर रही थी, और मरीज को पटना के पारस-एचएमआरआई अस्पताल ले जाया गया. जहां उनका इलाज किया गया. महिला की हालत अब स्थिर है

Latest Topics