• Mukesh Ambani Praises N Chandrasekaran: जब मुकेश अंबानी मंच से टाटा ग्रुप के चेयरपर्सन की करने लगे तारीफ, क्‍या है पूरा मामला

    Written ByDeepika Pandey

    Published onWed, 23 Nov 2022

    जब मुकेश अंबानी मंच से टाटा ग्रुप के चेयरपर्सन की करने लगे तारीफ, क्‍या है पूरा मामला

    N Chandrasekaran: रिलायंस इंडस्ट्रीज ल‍िम‍िटेड (Reliance Industries Ltd) के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने एक कार्यक्रम के दौरान टाटा ग्रुप के चेयरपर्सन एन चंद्रशेखरन (Tata Group chairperson N Chandrasekaran) की खूब प्रशंसा की. मुकेश अंबानी ने  एन चंद्रशेखरन की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने नमक से लेकर सॉफ्टेवयर बनाने वाले ग्रुप की प‍िछले कुछ सालों में शानदार वृद्धि की पटकथा लिखी है. वह गांधीनगर में पंडित दीनदयाल एनर्जी यून‍िवर्स‍िटी (Pandit Deendayal Energy University, PDEU) के 10वें दीक्षांत समारोह में चंद्रशेखरन के साथ मंच साझा कर रहे थे.

    'एन चंद्रशेखरन को पाकर हम गौरवान्वित'
    र‍िलायंस इंडस्‍ट्री के चेयरमैन अंबानी ने कहा कि उनके नेतृत्व में र‍िन्‍यूएबल एनर्जी (Renewable Energy) के क्षेत्र में टाटा ग्रुप के बड़े कदम प्रेरणादायक हैं. अंबानी ने कहा, 'आज के कार्यक्रम में चीफ गेस्‍ट के रूप में टाटा ग्रुप के चेयरपर्सन एन चंद्रशेखरन को पाकर हम गौरवान्वित हैं. वह कारोबारी समुदाय और युवाओं के लिये सही मायने में प्रेरणास्रोत हैं. आपको बता दें अंबानी पंडित दीनदयाल एनर्जी यून‍िवर्स‍िटी के संचालन मंडल के अध्यक्ष हैं, वहीं टाटा संस के प्रमुख दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि थे.

    प‍िछले कुछ सालों में टाटा ग्रुप की शानदार ग्रोथ
    अंबानी ने कहा, 'अपने दृष्टिकोण, दृढ़ विश्वास और समृद्ध अनुभव के साथ उन्होंने प‍िछले कुछ सालों में टाटा ग्रुप की शानदार ग्रोथ की पटकथा लिखी है.' अंबानी ने कहा कि चंद्रशेखरन ने भविष्य के कारोबार में टाटा के प्रवेश का नेतृत्व किया है. समूह ने उनके नेतृत्व में नवीकरणीय ऊर्जा (Renewable Energy) के क्षेत्र में जो बड़े कदम उठाए हैं, वे प्रेरणादायक हैं.

    उन्होंने कहा, 'यह कदम हमें बेहतर और उज्ज्वल भविष्य की ओर ले जाने के लिये नई ऊर्जा प्रौद्योगिकियों की क्षमता में उनके भरोसे को दर्शाता है. अंबानी ने कहा, 'यदि भारत को नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में महाशक्ति बनना है, तो यह राष्ट्र की सोच के साथ काम करने वाले कई प्रमुख औद्योगिक समूह की संयुक्त इच्छा और पहल के माध्यम से संभव है

Latest Topics