• पैदल चलते हुए भी जहां कांप जाए रूह, यात्रियों से भरी बस लेकर उस रास्ते से निकला हिमाचल रोडवेज का ड्राइवर
     

    Written ByDeepika Pandey

    Published onThu, 24 Nov 2022

    पैदल चलते हुए भी जहां कांप जाए रूह, यात्रियों से भरी बस लेकर उस रास्ते से निकला हिमाचल रोडवेज का ड्राइवर

    पैदल चलते हुए भी जहां कांप जाए रूह, यात्रियों से भरी बस लेकर उस रास्ते से निकला हिमाचल रोडवेज का ड्राइवर
    आरपीजी के अध्यक्ष हर् गोयनका (RPG Chairman Harsh Goenka) को ऐसी सामग्री शेयर करने का शौक है जो कुछ ही समय में वायरल हो जाती है. प्रेरणा देने वाला हो,

    विचारोत्तेजक हो या ऐसे वीडियो जो पल भर में लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच लेते हैं, ऐसे कंटेंट से उनका ट्विटर अकाउंट भर जाता है. आइए ऐसे ही एक वीडियो के बारे में बात करते हैं जिसे उद्योगपति ने 20 नवंबर को शेयर किया था. यह वीडियो हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में एक जोखिम भरी सड़क पर चलती बस का है और यह बेहद डरावना है.


    यह भी पढ़ें
    चुनावी बॉन्ड की अवधि बढाने के खिलाफ दाखिल याचिका पर 6 दिसंबर को सुनवाई करेगा SC
    चुनावी बॉन्ड की अवधि बढाने के खिलाफ दाखिल याचिका पर 6 दिसंबर को सुनवाई करेगा SC
    हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी के बाद 100 से ज्यादा सड़कें बंद


    हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी के बाद 100 से ज्यादा सड़कें बंद
    हिमाचल प्रदेश में 4.1 तीव्रता के भूकंप के झटके
    हिमाचल प्रदेश में 4.1 तीव्रता के भूकंप के झटके


    हर्ष गोयनका ने ट्विटर पर हड्डियां गला देने वाला ये वीडियो शेयर किया है. 51 सेकंड की इस क्लिप में एक बस को बेहद संकरी और जोखिम भरी सड़क पर चलते हुए देखा जा सकता है. वाहन के एक तरफ पहाड़ थे और दूसरी तरफ एक अथाह खाई. खबरों के मुताबिक, बस हिमाचल प्रदेश के चंबा-किल्लर रोड से गुजर रही थी.
    गोयनका ने पोस्ट को कैप्शन दिया, "इस बस के यात्रियों को बहादुरी के लिए पुरस्कार दिया जाना चाहिए."


    ऑनलाइन शेयर किए जाने के बाद से वीडियो को एक मिलियन से अधिक बार देखा गया. क्लिप देखने के बाद जाहिर तौर पर लोगों के पास कहने के लिए बहुत कुछ था.
    एक यूजर ने लिखा, "जब हम अपने जीवन के कठिन दौर में होते हैं तो हमें अपने प्यारे सर्वशक्तिमान पर भरोसा करना चाहिए, यह विश्वास है कि यात्री बस के चालक पर भरोसा करते हैं."


    एक अन्य यूजर ने कमेंट किया, "सुदूर इलाकों के यात्रियों को पास के शहरों में ले जाने वाले ड्राइवरों को बहादुरी पुरस्कार देना चाहिए."

Latest Topics