• श्मशान घाट में क्यों काटा Birthday Cake? पार्टी में आए लोगों ने खाई बिरयानी और केक; क्या है वजह

    Written ByDeepika Pandey

    Published onThu, 24 Nov 2022

    श्मशान घाट में क्यों काटा Birthday Cake? पार्टी में आए लोगों ने खाई बिरयानी और केक; क्या है वजह

    कभी-कभी लोगों पर अंधविश्वास इतना हावी हो जाता है कि सही-गलत की समझ नहीं रह जाती और किसी भी शख्स द्वारा कुछ भी कहे जाने पर खौफ में आ जाता है. हालांकि, कुछ लोग ऐसे भी जो अंधविश्वास के खिलाफ जागरुकता फैलाते हैं. कुछ ऐसा ही महाराष्ट्र के ठाणे जिले के कल्याण कस्बे में देखने को मिला, जब एक निवासी ने समाज में व्याप्त अंधविश्वास के खिलाफ मैसेज देने के लिए श्मशान घाट में अपना बर्थडे मनाया. गौतम रत्न मोरे (Gautam Ratn More) नाम के शख्स ने 19 नवंबर को 54 साल के हुए और उन्होंने अपना जन्मदिन मनाने के लिए बीते शनिवार की रात को महाणे श्मशान घाट में एक जश्न का आयोजन किया.

    शख्स ने श्मशान घाट में मनाया अपना जन्मदिन

    श्मशान घाट में गौतम ने मेहमानों के लिए बिरयानी मंगवाया और केक काटा. सोशल मीडिया पर इस पार्टी का एक वीडियो बुधवार को सामने आया, जिसमें लोग जन्मदिन का जश्न मनाते दिख रहे हैं. यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. वीडियो में देखा जा सकता है कि शख्स ने जन्मदिन के मौके पर न सिर्फ केक काटा बल्कि खाने-पीने का भी अरेंजमेंट किया. गौतम मोरे ने इस मौके पर मीडिया के लोगों से कहा कि वह ऐसा करने के लिए सामाजिक कार्यकर्ता दिवंगत सिंधुताई सपकाल और दिवंगत नरेंद्र दाभोलकर से प्रेरणा ली, जिन्होंने काले जादू (Black Magic) और अंधविश्वास के खिलाफ अभियान चलाया था.

    अंधविश्वास को दूर करने के लिए किया ऐसा

    प्रेरित होकर इस जन्मदिन का आयोजन करने वाले गौतम की कई लोगों ने तारीफ की और कहा कि समाज में व्याप्त ऐसे कई अंधविश्वास के सामने खड़े होकर विरोध करना चाहिए, ताकि लोग जागरुक हो सके. उन्होंने यह भी कहा कि वह लोगों को यह मैसेज भी देना चाहते थे कि हमारे समाज में फैले भूत-प्रेत कुछ नहीं होते. हमें सिर्फ ईश्वर पर भरोसा करना चाहिए. गौतम मोरे के जन्मदिन पर कई सारे मेहमान मौजूद रहे, जिसमें न सिर्फ पुरुष बल्कि 40 महिलाएं और बच्चों सहित 100 से अधिक मेहमान शामिल हुए. ज्यादातर लोग श्मशान घाट में जन्मदिन मनाने के लिए पहुंचे.

Latest Topics