Skynews100-hindi-logo

Bizarre! 200 घंटे लगातार जागता रहने वाले व्यक्ति को हुई एक अजीबोगरीब बीमारी, जानिए क्या है यह

1959 में, एक रेडियो डीजे पीटर ट्रिप ने अद्भुत फैसला लिया और 200 घंटे लगातार जागने की कोशिश की। वास्तव में, यह कार्यक्रम उनके लिए भयानक परिणामों के साथ साबित हुआ।
 
200 घंटे लगातार जागता रहा शख्स, हो गई अजीबोगरीब बीमारी
अजीबोगरीब बीमारी के चलते एक शख्स ने लगातार 200 घंटे जागराता रहा है! जानिए इस अद्भुत रोग के बारे में अधिक।

Latest News Update: हर कोई भीड़ के साथ चल सकता है, लेकिन उन विशेष लोगों की कहानी अलग होती है जो लीक से हटकर काम करते हैं। ये लोग एक अलग स्तर पर जुनूनी होते हैं। आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी सुनाने जा रहे हैं जिन्होंने एक बेहद अजीबोगरीब एक्सपेरिमेंट में हिस्सा लिया, जिसे आप कल्पना तक नहीं कर सकते। हम बात कर रहे हैं रेडियो जॉकी पीटर ट्रिप (Peter Tripp) की, जिन्होंने 200 घंटे लगातार जागने का फैसला किया। इससे भी चौंकाने वाली बात है कि वे इसे पूरा कर भी दिखाए। लेकिन इस कार्रवाई ने उन्हें भयानक परिणामों का सामना करना पड़ा।

हम वर्ष 1959 की बात कर रहे हैं, जब पीटर ने इस चुनौती को स्वीकार किया। उन्होंने अपने शो का प्रसारण 200 घंटे तक लगातार जारी रखा। इसे जानकर आपको बताना चाहेंगे कि यह सब एक संस्था के लिए औचित्य और उद्देश्य के नाम पर किया गया था। "मार्च ऑफ डाइम्स" नामक एक गैर-लाभकारी अमेरिकी संस्था थी, जो माओं और नवजात शिशुओं के स्वास्थ्य सुधार के प्रति काम करती थी। यह संस्था लोगों से अनुदान इकट्ठा कर रही थी।

चैलेंज के तहत, पीटर न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वेयर में स्थित एक बूथ में बैठ गए। उन्होंने नियमित समय पर अपने शो का प्रसारण शुरू किया। इसे विज्ञान के साथ जोड़कर किया गया था, इसलिए कुछ स्लीप रिसर्चर्स को इसे निगरानी करने के लिए बुलाया गया। चौंकाने वाली बात यह है कि पीटर लंबे समय तक जागते रहे। इस अवधि में उनके भाव-भीति में कोई बदलाव दिखाई नहीं दिया।

120 घंटे बाद तबीयत खराब हो गई।


लेकिन, 120 घंटे निरंतर जागने के बाद से पीटर को मायावी अनुभव होने लगे। उन्हें ऐसा लगा कि वे होटल के कमरे में बंद हैं और सामने रखे संदूक से आग की लपटें निकल रही हैं। पीटर को ऐसा विचार आया कि वैज्ञानिकों ने इसे कठिन बनाने के लिए इच्छित किया है।

शोधकर्ताओं ने पीटर को इस विचित्र व्यवहार के साथ देखा और तुरंत उनसे संपर्क करने की कोशिश की। लेकिन तंग आदमी ने उन्हें गलत समझ लिया। स्लीप रिसर्चर्स के अनुसार, निरंतर जागने के कारण पीटर को अनूठे सपने आने लगे थे। यद्यपि उन्होंने इस स्थिति में भी जागरूकता बरकरार रखी।

पीटर ने एक समय तक वैज्ञानिकों से यह सवाल पूछा कि वे वास्तव में कौन हैं। दुर्भाग्यवश, इतने सभी घटनाओं के बावजूद, पीटर ने 200 घंटे लगातार जागते रहने में सफलता प्राप्त की। यानी, वह लगभग 10 दिन तक जागते रहे। हालांकि, यह चुनौती ने उनकी जीवन को बर्बाद कर दिया। उनके मानसिक स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ा। जब उन्हें रेडियो स्टेशन पर काम से निकाल दिया गया, तब पत्नी ने भी तलाक कर दिया।