Skynews100-hindi-logo

Manipur Violence: मणिपुर में नहीं बुझ रही हिंसा की आग, जून तक बढ़ा इंटरनेट बैन

Manipur Violence:  मणिपुर के इंफाल पश्चिम जिले में सोमवार सुबह हथियारबंद लोगों के दो गुटों के बीच हुई गोलीबारी में तीन लोगों की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए।
 
 
Manipur Violence:

Manipur Violence:  पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर में हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। पिछले कई हफ्तों से पूरे राज्य में तनाव का माहौल है। हर दूसरे दिन, मणिपुर में किसी न किसी तरह की हिंसा देखी जा रही है, जिसके कारण इंटरनेट प्रतिबंध की अवधि बढ़ा दी गई है। स्थिति को देखते हुए मणिपुर में इंटरनेट पर प्रतिबंध शनिवार, 10 जून तक जारी रहेगा। यह फैसला मणिपुर सरकार ने लिया है। इससे पहले हिंसा भड़कने के बाद पहली बार तीन मई को इंटरनेट पर प्रतिबंध लगाया गया था, जिसे अब बढ़ा दिया गया है।

10 जून तक इंटरनेट बंदहिंसा की आग में धधक रहा है मणिपुर, पूरे राज्य में कर्फ्यू, देखते ही गोली  मारने के आदेश
मणिपुर सरकार ने आदेश जारी कर कहा है कि प्रतिबंध जून की दोपहर तीन बजे तक जारी रहेगा किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरे मणिपुर और खासकर हिंसा प्रभावित इलाकों में भारी सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं। मणिपुर पुलिस के अलावा केंद्रीय सुरक्षा बलों की कई टुकड़ियों को भी तैनात किया गया है। राज्य सरकार को दंगाइयों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने से भी छूट दी गई है।

हिंसा सोमवार को भी जारी रही
मणिपुर में सख्ती के बावजूद हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। मणिपुर के इंफाल पश्चिम जिले में सोमवार सुबह हथियारबंद लोगों के दो गुटों के बीच गोलीबारी में तीन लोगों की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए। पुलिस ने बताया कि यह घटना जिले के कांगचुप इलाके में हुई। उन्होंने कहा कि घायलों को इंफाल के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है। पुलिस ने कहा कि कांगचुप जिले के सेरौ में दो समूहों के बीच गोलीबारी में चार लोग घायल हो गए।

हिंसा क्यों हो रही है
दरअसल पूरा विवाद दो समुदायों के बीच है। मणिपुर का मैताई समुदाय सबसे अधिक आबादी वाला समुदाय है, जो ज्यादातर शहरी क्षेत्रों में है। कुकी और नागा समुदाय पर्वतीय क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासी हैं। मैताई और कुकी समुदायों के बीच उनके अधिकारों और अधिकारों को लेकर संघर्ष है। मामला तब और बढ़ गया जब हाई कोर्ट ने मैताई समुदाय को एसटी का दर्जा देने का निर्देश दिया। राज्य में मई की शुरुआत से हिंसा भड़क रही है, जिसमें करीब 70 लोग मारे गए हैं।