Skynews100-hindi-logo

Science News: एक दिन खत्म हो जाएगा पूरा ब्रह्मांड,जाने कारण !

Science News: 1974 में, वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने कहा कि एक दिन ब्रह्मांड समाप्त हो जाएगा और शून्य में विलीन हो जाएगा।

 
Science News:

Science News: 1974 में वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने कहा था कि एक दिन ब्रह्मांड समाप्त हो जाएगा और शून्य में विलीन हो जाएगा। स्टीफन हॉकिन्स ने कहा कि मृत्यु के बाद विशाल सितारे ब्लैक हॉल में बदल जाते हैं। ब्लैंक हॉल में जबरदस्त शक्ति होती है। यह शक्ति ब्लैक हॉल को ग्रहों और उसके आसपास के पिंडों को निगलने का कारण भी बनाती है। लेकिन समय के साथ, ब्लैक हॉल ऊर्जा खोने लगता है। आधुनिक समय में इस प्रक्रिया को स्टीफन विकिरण कहा जाता है। यह एक ब्लैक होल के अस्तित्व के शून्य में बदलने की प्रक्रिया है।

ब्रह्मांड का फैलना जल्द हो जाएगा बंद, सिर्फ 10 करोड़ साल में ही सिकुड़ने  लगेगा...नई स्टडी - universe could stop expanding soon says study tstr -  AajTak
हाल ही में नीदरलैंड की रेडबाउंड यूनिवर्सिटी में किए गए एक अध्ययन के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला गया है कि न केवल ब्लैक होल बल्कि एक दिन पूरा ब्रह्मांड गायब हो जाएगा और इसका द्रव्यमान शून्य हो जाएगा। अध्ययन शोध पत्रिका फिजिकल रिव्यू लेटर्स में प्रकाशित हुआ था। इसे स्टीफन हॉकिंग के ब्रह्मांड की उत्पत्ति और विनाश के सिद्धांत का विस्तार माना जाता है।
end of the world, मशहूर वैज्ञानिक ने बताया, अरबों साल बाद जब एकदम ठंडा हो  जाएगा ब्रह्मांड, सितारे हो जाएंगे खत्म...तब कैसे होगा धरती का अंत? -  universe to ...

ब्रह्मांड की उत्पत्ति और विनाश के बारे में भारतीय वैदिक साहित्य क्या कहता है?
भारतीय वैदिक साहित्य में ब्रह्मांड की उत्पत्ति के बारे में लिखा है कि ब्रह्मांड शून्य से उत्पन्न हुआ है और एक दिन फिर से शून्य में विलीन हो जाएगा। ब्रह्मांड के निर्माण और विनाश के बारे में स्टीफन हॉकिन्स का भी यही कहना था। वैदिक साहित्य में ब्रह्मांड के पूर्ण रूप से शून्य में विलीन होने की प्रक्रिया को महाप्रलय कहा जाता है। आंशिक प्रलय को समय अंतराल पर आकाशगंगाओं, ग्रहों आदि के विनाश की प्रक्रिया कहा गया है, जो हर समय ब्रह्मांड में कहीं न कहीं होती रहती है। जिसे आधुनिक यंत्रों (साइंस न्यूज) के जरिए देखा जा सकता है। नासा और अन्य संगठनों के माध्यम से समाचार आते रहते हैं कि टेलीस्कोप के कैमरों ने ब्लैक होल को ग्रह को निगलते हुए कैद कर लिया है।